ताज़ा टिप्पणियां

विजेट आपके ब्लॉग पर




मुद्दत के बाद उसने जो की लुत्फ़ की निगाह

जी ख़ुश तो हो गया मगर आँसू निकल पड़े


जिस तरह हँस रहा हूँ मैं पी पी के अश्के-ग़म

यूँ दूसरा हँसे तो कलेजा निकल पड़े



रचयिता - कैफ़ी आज़मी

प्रस्तुति - अलबेला खत्री


This entry was posted on 8:49 AM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

4 comments:

    Amitraghat said...

    शुक्रिया आपका इस बेहतरीन रचना के लिये.."

  1. ... on May 18, 2010 at 9:04 AM  
  2. दिलीप said...

    waah sir...share karne ke liye shukriya...

  3. ... on May 18, 2010 at 10:04 AM  
  4. kunwarji's said...

    kaifi ji ki to baat hi alag hai...

    kunwar ji,

  5. ... on May 18, 2010 at 9:38 PM  
  6. किरण राजपुरोहित नितिला said...

    खुशी और आंसू का अनोखा संगम.

  7. ... on May 19, 2010 at 5:12 AM