ताज़ा टिप्पणियां

विजेट आपके ब्लॉग पर



हास्यकवि
राजेन्द्र मालवी "आलसी" मेरे मित्र और मंचीय साथी हैं,

उनसे
सुना हुआ एक काव्यांश आज ईद-उल-जुहा के मुबारक मौके पर

याद
गया है.....आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहा हूँ :


बकरा ईद के दिन

एक बकरे ने मौलवी से कहा

आज हमें काट दिया जाएगा

ये बात पूरी तरह अटल है


मेरे दोस्त !

तू मस्जिद पर लिख दे कि ईद कल है



-अलबेला खत्री


idd ul juha,bakra idd,eid,idd mubaraq, rajendra malvi aalsi,albela khatri,hasyakavi


This entry was posted on 5:51 AM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

0 comments: