ताज़ा टिप्पणियां

विजेट आपके ब्लॉग पर


जीवन के दोहे 

 

छोटी सी यह ज़िन्दगी, छोटा सा संसार 


छोटे हो कर देखिये, मिलता कितना प्यार 



अपनों की परवाह तो करते हैं सब लोग 


ग़ैरों की ख़िदमत करो, ये है सच्चा योग 



मेरे घर के सामने,  रहती है  इक हूर


दिल के है नजदीक पर, बाहों से है दूर 



पुरखे अपने चल दिए, करके अच्छे  काम 


अपनी यह कटिबद्धता, नाम न हो बदनाम 



तेरी मेरी क्या करूँ,  क्या है इसमें सार 


कोशिश है बाँटा करूँ, सबको अविरल प्यार 



- अलबेला खत्री

an apeel by albela khatri to all dear friends & well wishers



This entry was posted on 9:23 PM and is filed under , , , , , , , , . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

2 comments:

    अजय कुमार झा said...

    आपकी इस कोशिश को ईश्वर का आशीष और हमारी भी दुआ लगे । काश कि सब यही कर सकें । सुंदर भाव , अलबेला भाई


    जरूरी है दिल्ली में पटाखों का प्रदूषण

  1. ... on November 3, 2012 at 11:23 PM  
  2. रविकर said...

    kabhi charcha manch par bhi aayen aap ki rachna pray: vahan hoti hai-

  3. ... on November 4, 2012 at 8:46 PM